रिटायरमेंट के बाद आर्मी कुत्तों को मिलती हैं मौत की सजा , जानिए वजह !

1,725

अगर हम लोग वफ़ादारी की बात करे तो आज कल की दुनिया में इंसान से वफादार कुत्ता को माना जाता है , एक बार तो इंसान भले ही अपने मालिक को धोखा दे दे पर कुत्ता एक जानवर होते हुए भी अपनी मालिक के प्रति वफादार होता है . हम सब जानते है कुत्ते को सेना में भर्ती किया जाता है .

Source

कुत्तों की सूँघने के तीव्र क्षमता और एक्टिव होने की वजह से इन्हे जासूसी के कामों में प्रयोग में लाया जाता है. सेना में भी इसी मकसद से इनसे काम लिया जाता है. पर इसके साथ ही ये बात भी सुनने में आती है कि भारतीय सेना रिटायरमेंट के बाद वफादार कुत्तों को मार देती है. ये बात बिलकुल सच है पर इसके पीछे कुछ वजह ही ऐसी है की उन्होंने मजबूरन ऐसा करना पड़ता है .

Source

सब जानते हैं कि भारतीय सेना हो या फिर पुलिस, यहां इंसानो के साथ साथ कुत्ते भी काम करते हैं. कुत्ते बहुत सी ऐसी जगहों पर काम करते हैं जहां इंसान नहीं पहुँच सकता. पर सबसे बड़ा सवाल यह उठता है कि भारतीय सेना इन कुत्तों को रिटायरमेंट के बाद खुद ही गोली क्यों मार देती है. क्या यह गलत नहीं है और अगर है तो भारतीय सेना एक कुत्ते को कैसे मार सकती है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक ऐसे ही एक नाराज़ व्यक्ति ने RTI के जरिए रिटायरमेंट के बाद कुत्तों को गोली से मारे जाने को लेकर सेना से जवाब माँगा था जिसके जवाब में सेना ने कुत्तों को रिटायरमेंट के बाद मारे जाने की वजह बताई है.

- Advertisement -

Source

सेना के अनुसार, रिटायरमेंट के बाद कुत्ता किसी ऐसे व्यक्ति को ना मिल जाए जिससे देश को हानि पहुंच सके क्योंकि कुत्ते को भारतीय सेना के हर उऩ गुप्त स्थानों के बारे में पता होता है. जो उसे ट्रेनिंग के दौरान बताए जाते है. भारतीय सेना ने ये भी बताया कि अगर कुत्ते का स्वास्थ्य ठीक नहीं होता है तो उसका चेकअप भी करवाया जाता है. यदि इलाज के दौरान एक महीने तक कुत्ते की हालत में कोई सुधार नहीं होता है. तब भी उसे मार दिया जाता है. साथ ही इसके पहले पूरे सम्मान के साथ उसकी विदाई की जाती है. अगर कुत्ते को एनिमल वेलफेयर सोसाइटी को भी सौपी जाय तो ये उन्होंने वैसी सुविधाएं नहीं दे सकते जो उन्हें सेना में मिलती है।

आपका इस बारे में क्या राय है , कमेंट में जरुर बताये

- Advertisement -

- Advertisement -

You might also like

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.