Latest News , opinion & viral stories from India in hindi

पोस्मार्टम टेबल पर अचानक साँस लेने लगी “मृत शरीर”, फिर जो हुआ…

0 80

डॉक्टर की लापरवाही से लोगो की जान बचने वाली रहती फिर भी मृतक घोषित कर देते हैं यही मामला है कि पोस्मार्टम टेबल पर मृत शरीर के शव का परिक्षण करना दुर्लभ कार्य है जिसे बेहद पेशेवर डॉक्टर ही अंज़ाम दे पाते हैं, आम लोगों के लिए ये डरावना लगता है। इस कार्य को करने के लिए प्रशिक्षण के साथ-साथ दिल भी मजबूत होना चाहिए। विशेषज्ञ डॉक्टर्स इसी हुनर और ज़ज्बे के साथ बिना किसी झिझक और डर के इसे अंज़ाम देते हैं।

Source
पोस्टमार्टम रूम में चलने लगी सांसे

ये मामला है जो हाल ही में पोस्मार्टम टेबल पर कुछ ऐसा हुआ जिसने पोस्मार्टम करने वाले डाक्टरों के भी होश उड़ा दिए। हालाँकि स्पेन में पोस्मार्टम रूम में आई मृत शरीर जब परिक्षण के लिए पोस्मार्टम टेबल पर लाई गई तो अचानक ही वो साँस लेने लगी और उसके बाद जो हुआ उसे देख पोस्मार्टम कर्मी भी सदमे में आ गए।

यह मामला स्पैनिश कैदी के साथ हुआ है जिसे मृत घोषित करने के बाद उसकी बॉडी पोस्मार्टम घर लाई गई। लेकिन जब उसका शव परिक्षण के लिए खोला गया तो साँस की आवाज से उसकी जिंदगी बच गई। मीडिया के अनुसार स्पेन के ओवीडो शहर के एक जेल में जब सुबह के समय गोंजालो मोटोया जिमेनेज नाम के एक कैदी की नींद अलार्म से नहीं खुली तो जेल प्रशासन ने उसकी जांच कराई जिसमें तीन डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। इसके बाद उस कैदी की बॉडी को बैग में डाल शव परीक्षण के लिए भेज दिया गया। वहां पोस्मार्टम कर्मियों ने 29 वर्षीय गोंजालो की बॉडी को खोला और उस पर छुरी चलाने के लिए मार्क भी बना लिए लेकिन तभी टेबल पर पड़ी उस बॉडी में हरकत सी होने लगी और साँस चलने लगी।

Source
डॉक्टर की लापरवाही

इस मामले में कैदी के परिवार वालो ने जेल प्रशासन से लेकर उन तीन डॉक्टर्स पर लापरवाही का आरोप लगाया है। उनका कहना है की ये बड़ी चूक है। परिजनो ने मीडिया को बताया कि तीनों में से सिर्फ एक डॉक्टर ने गोंजालो की जांच की और बाकी दो डॉक्टरों ने सीधा उसे मृत घोषित कर दिया।

- Advertisement -

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.