ये हैं वो ऐतिहासिक इमारतें, जिनका निर्माण भारतीय महिलाओं ने करवाया

47

इतिहास की माने तो धार्मिक, आर्थिक, राजनीतिक, सामाजिक लगभग सभी क्षेत्र में पुरुषों का दबदबा बना रहा. महिलाओं को लेकर हमेशा ही समाज में दुविधा बनी है. इस आलोचनाओं के बावजूद कुछ महिलाएं जो इतिहास में अपना योगदान दर्ज करवा चुकी हैं. इन ऐतिहासिक इमारतों से हर किसी के दिमाग के पहले ताज महल का नाम आता है. दुनिया भर में प्रसिद्ध ताजमहल बनाने के पीछे का कारण एक औरत थी. आइए जानते हैं उन ऐतिहासिक इमारतों के बारे में जो महिलाओं द्वारा निर्मित है.

Source

1. इतमाद उद दौला, आगरा

यह मकबरा नूरजहां ने अपने पिता मिर्जा गियास के लिए बनवाया था. भारतीय इतिहास में यह पहली इमारत थी, जो संगमरमर से बनवाई गई थी. इस मकबरे में लाल और पीले बलुई पत्थरों का प्रयोग किया गया है.

Source

2.  रानी का वाव, पाटन

रानी का वाव एक बावड़ी है, जिसका निर्माण ग्यारहवीं श्ताब्दी में किया गया था. इसे सोलंकी राजवंश में रानी उदयमती द्वारा अपने पति राजा भीमराव के लिए करवाया गया था. इसे खास मरु-गुर्जर शैली के द्वारा बनवाया गया था. यह बावड़ी बहुत खास है.

Source

3. विरुपाक्ष मंदिर,पट्टदकल

विरुपाक्ष मंदिर हम्पी में स्थित है, यह प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है जिसमें इतिहास की झलक देखने को मिलती है. इसका निर्माण 740 ई.पू. में रानी लोकमहादेवी द्वारा अपने पति राजा विक्रमादित्य द्वितीय की पल्लव शासकों पर विजय के उपलक्ष्य में पट्टदकल में बनवाया गया था.

Source

4. हुमायुं का मकबरा, दिल्ली

इस मकबरे का निर्माण हुमायुं की पत्नी हमीदा बानु बेगम ने करवाया था. जिसमें भारतीय और पारसी शिल्पकारों द्वारा संयुक्त रुप से किया गया था. यह भारतीय इतिहास में पहला ऐसा मकबरा है, जिसमें पारसी गुम्बद का प्रयोग किया गया था.

Source

- Advertisement -

You might also like

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.