दूल्हा-दुल्हन से उम्र में क्यों बड़ा होता है जानिए इसके ये 5 कारण !

0 1,971

शादी ना सिर्फ एक खबसूरत एहसास है बल्कि ये दो लोगों को प्यार के पवित्र डोर से सात जन्मों के लिए बांधकर रखता है. बेशक पति-पत्नी के रिश्ते को दुनिया के चंद खूबसूरत रिश्तों में से एक माना जाता है |

हालांकि हिंदू धर्म में शादी को लेकर कई सारी मान्यताएं प्रचलित हैं जिनका पालन लोग सदियों से करते आ रहे हैं. शादी के समय जितने रीति-रिवाज भारत में निभाने पड़ते हैं शायद ही दुनिया के किसी देश में इतने रीति-रिवाज होते होंगे |

आज भले ही लड़का-लड़की अपनी पंसद से अपना जीवनसाथी चुनने के लिए आजाद हैं लेकिन एक ऐसा दौर भी था जब ये जिम्मेदारी माता-पिता निभाते थे और अपनी पसंद के लड़के से बेटी की शादी कराते थे. लेकिन ऐसा नहीं है कि आज के दौर में ये जिम्मेदारी माता-पिता नहीं निभाते हैं क्योंकि आज भी अधिकांश जगहों पर माता-पिता ही अपने बच्चों की शादी के लिए वर या वधू पसंद करते हैं और उनकी शादी कराते हैं.

शादी-ब्याह के मामले में हमेशा ही लड़की से बड़े उम्र के लड़के को ज्यादा तव्वजो दी जाती रही है यानि लड़के और लड़की की उम्र में अंतर होना जरूरी माना जाता है.

Source

आखिर क्यों शादी के लिए लड़की से बड़ी उम्र के लड़के को चुना जाता है, चलिए हम आपको बताते हैं इसके एक नहीं बल्कि पांच कारण.

1- खुशहाल जीवन के लिए

Source

ऐसा माना जाता है कि जिन शादियों में लड़का और लड़की के बीच उम्र का ज्यादा अंतर होता है यानी दूल्हा-दुल्हन से उम्र में बड़ा होता है तो ऐसी शादी ज्यादा समय तक चलती है. दोनों ही अपनी शादीशुदा जिंदगी में बेहद खुश रहते हैं और उनका जीवन खुशहाल बना रहता है.

2- रिश्ते में नहीं होती है तकरार

Source

कहा जाता है कि जब पति-पत्नी की उम्र में ज्यादा अंतर नहीं होता है तो उन दोनों के बीच हर बात को लेकर अहम बीच में आ जाता है, जिसके कारण उनके बीच कई बार छोटी-छोटी बातों को लेकर झगड़े हो जाते हैं. अगर दोनों की उम्र में अंतर होता है तो फिर वो अपने बीच होनेवाली तकरार को अपनी सूझबूझ से टाल देते हैं.

3- एक-दूसरे के सम्मान के लिए

Source

कहा जाता है कि अगर लड़का लड़की से उम्र में बड़ा होता है तो शादी के बाद दोनों के बीच एक-दूसरे के प्रति सम्मान की भावना बनी रहती है. ऐसा देखा गया है कि पति किसी भी रिश्ते को चलाने के लिए बहुत धैर्य से काम लेता है और जब भी कभी उनके रिश्ते में ऐसी कोई समस्या आती है तो पति-पत्नी को साथ में बिठाकर रिश्ते को सामान्य करने की कोशिश करता है.

4- रिश्ते में साझेदारी के लिए

Source

इस बात से विज्ञान भी इंकार नहीं करता है कि अगर पति की उम्र उसकी पत्नी से बड़ी है तो फिर दोनों के रिश्ते में जीवन पर्यंत साझेदारी बनी रहती है. लड़की शादी के बाद अपने पति का सम्मान करती है जबकि पति किसी भी मुसीबत की घड़ी में अपनी पत्नी का साथ नहीं छोड़ता है. दोनों आपस में तालमेल बिठाकर शादीशुदा जिंदगी की गाड़ी को आगे बढ़ाते हैं.

5- रिश्ते में परिपक्वता के लिए

Source

ऐसा कहा जाता है कि लड़कियां छोटी उम्र में ही परिपक्व हो जाता हैं जबकि लड़कों को भावनात्मक रुप से परिपक्व होने में थोड़ा ज्यादा समय लगता है. इसलिए विशेषज्ञ भी यही मानते हैं कि लड़के और लड़की की शादी में उम्र का अंतर होना चाहिए. लड़का-लड़की से कम से कम उम्र में 5 साल तक बड़ा होना चाहिए.

- Advertisement -

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.